शनिवार, 8 अगस्त 2009

कविताएं



कविता
अपने-अपने रास्ते
सुभाष नीरव

छोड़ कर सीधे-सरल रास्ते
वह उतरा घाटियों में
चढ़ा पर्वतों पर।

सीधे-सरल रास्तों ने
बहुत लुभाया उसे
पर उसने चुनीं
चुनौती भरी राहें।

दुर्गम घाटियों में उतर कर
वह सुनता रहा उनका संगीत
और खोजता रहा
गहराइयों का सच।

न जाने किस गहरे दु:ख में
ख़ामोश खड़े थे पहाड़
वह ढूँढ़ता रहा
उनकी ख़ामोशियों के अर्थ।

पत्थरों-चट्टानों
नदी, नालों और निर्झरों
फूलों और कांटों को लांघता
जब वह पहुँचा मंज़िल पर
उसके पास थी
ढेर सारे अनुभवों की पूंजी।

पर लोग तो वहाँ
पहले से ही मौजूद थे
जो सीधे-सरल रास्तों से हो कर आए थे
और किए जा रहे थे पुरस्कृत।

खुश थे अपनी सफलता पर
जिस समय
पुरस्कृत हुए लोग
वह बढ़ रहा था
चुपचाप
नई मंज़िल
नई चुनौतियों की तलाश में।
0
(कविता संग्रह “रोशनी की लकीर” में संग्रहित)

9 टिप्‍पणियां:

PRAN SHARMA ने कहा…

SUBHASH JEE,
AAPKEE NAYEE KAVITA"APNE-
APNE RASTE"KEE KYA BAAT HAI!
PRATIBADDH AUR SAMARPIT LOGON KAA
DYEY TO KEWAL APNE LAKSHYA KO PRAPT
KARNA HAI.KHOOB KAHAA HAI AAPNE--
JIS SAMAY PURUSHKRIT HUE LOG
VAH BADH RAHAA THAA
CHUPCHAAP
NAYEE MANZIL
NAYEE CHUNAUTIYON KEE
TALAASH MEIN

Nirmla Kapila ने कहा…

खुश थे अपनी सफलता पर
जिस समय
पुरस्कृत हुए लोग
वह बढ़ रहा था
चुपचाप
नई मंज़िल
नई चुनौतियों की तलाश में।
आज के पुरस्कारों का सच और सची लेखक की अभिव्यक्ति को दर्शाती एक खूबसूरत रचना बधाई

Ruchira ने कहा…

kahin bahut gehra dard chhupa hai is rachna mein..

सुशील कुमार ने कहा…

सुभाष नीरव की कविता अपने-अपने रास्ते समय के सच का बयान करती है और जीवन में संघर्ष का निदेश भी। जो चुनौतियों से घबराते नहीं और अपने लक्ष्य पर आरूढ़ होते हैं उनके लिये यह कविता संबल और उर्जा देती है। बधाई इस सुन्दर कविता के लिये।

रूपसिंह चन्देल ने कहा…

यार पहले भी इसे पढ़ी थी, लेकिन अब पढ़कर नये अर्थ खुले. बहुत खूबसूरत कविता.

चन्देल

बेनामी ने कहा…

Dear Neerav Ji !
I enjoyed your poetry !
I'm indeed thankful to you for keeping in touch.

Regards

Vigyan Vrat
vigyanvrat@yahoo.com

Dnangrani ने कहा…

नीरव जी
आपकी कवितायेँ दर्द से भीजी हुई हद से सरकती हुई सरहदों की और अपने वजूद की तलाश में निकली है जैसे.

न जाने किस गहरे दु:ख में
ख़ामोश खड़े थे पहाड़
वह ढूँढ़ता रहा
उनकी ख़ामोशियों के अर्थ।
देवी नागरानी

राजीव तनेजा ने कहा…

बहुत ही प्रभावित करती कविता

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन


SANJAY KUMAR
HARYANA
http://sanjaybhaskar.blogspot.com