रविवार, 31 अक्तूबर 2010

कविता



मित्रों, पिछले कुछ माह से घर-परिवार और कार्यालयी उलझनों, परेशानियों के चलते तथा आँख के आप्रेशन के कारण अपने ब्लॉग ‘सृजन-यात्रा’ पर ही नहीं अपितु अपने अन्य ब्लॉगों पर भी ध्यान नहीं दे पाया। स्थितियाँ कुछ बेहतर हुईं तो आज छूटे हुए कामों को पूरा करने का यत्न कर रहा हूँ। ‘सृजन-यात्रा’ में अपनी कुछ कहानियों के बाद कविताओं के प्रकाशन का सिलसिला मैंने आरंभ किया था। इस पोस्ट में अपनी कविता ‘कविता मेरे लिए’ इसलिए प्रस्तुत कर रहा हूँ कि दीपावली का शुभ-पर्व करीब है और मेरी इस कविता में ‘शब्दों’ को ‘रौशनी’ बनाने की बात आई है। इस कविता को आप सबके सम्मुख दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ रख रहा हूँ…

कविता मेरे लिए

सुभाष नीरव

कविता की बारीकियाँ
कविता के सयाने ही जाने।

इधर तो
जब भी लगा है कुछ
असंगत, पीड़ादायक
महसूस हुई है जब भी भीतर
कोई कचोट
कोई खरोंच
मचल उठी है कलम
कोरे काग़ज़ के लिए।

इतनी भर रही कोशिश
कि कलम कोरे काग़ज़ पर
धब्बे नहीं उकेरे
उकेरे ऐसे शब्द
जो सबको अपने से लगें।

शब्द जो बोलें तो बोलें
जीवन का सत्य
शब्द जो खोलें तो खोलें
जीवन के गहन अर्थ।

शब्द जो तिमिर में
रौशनी बन टिमटिमाएँ
नफ़रत के इस कठिन दौर में
प्यार की राह दिखाएँ।

अपने लिए तो
यही रहे कविता के माने।

कविता की बारीकियाँ तो
कविता के सयाने ही जाने।
0
(कविता संग्रह “रोशनी की लकीर” में संग्रहित)

24 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जी वैसे मायने मुझे भी नहीं पता ..वो सयाने ही जाने ...आपकी रचना अपनी सी लगी

PRAN SHARMA ने कहा…

SUBHASH JEE , AAPKEE KAVITA KHOOB
HAI ! BAHUT HEE KHOOB !! YE PANKTIYAN AAPKEE LEKHNEE SE NIKAL
SAKTEE THEEN

SHABD JO BOLEN TO BOLEN
JEEWAN KAA SATYA
SHABD JO KHOLEN TO KHOLEN
JEEWAN KE GAHAN ARTH

MAINE KABHEE GAZAL LIKHEE
THEE . USKAA MATLA PADHIYEGA -

JYON QATRA PANI HOTA HAI
HAR SHABD KAHANI HOTA HAI

अनुपमा पाठक ने कहा…

sundar rachna!
shabd brahm hote hain....
raushan kare kore kagaz ka sansaar!
likh jaaye sanchit sanskaar!!

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (1/11/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा।
http://charchamanch.blogspot.com

सहज साहित्य ने कहा…

भाई नीरव जी आपने सही कहा है । कविता तो सहज भावों , विचारों और कल्पनाओं की अभिव्यक्ति है । चतुर सयाना कुछ और हो सकता है , कवि कदापि नहीं । अच्छी कविता के लिए हार्दिक बधाई !

बलराम अग्रवाल ने कहा…

कविता की बारीकियाँ तो वाकई सयाने ही जानें। हम तो बस इतना जानते हैं कि जो कविता दिल में उजाला-सा भर दे, अपनी अभिव्यक्ति-सी लगे, वह कविता अच्छी है। यह कविता ऐसी ही है।

Devmani Pandey ने कहा…

दीप पर्व की शुभकामनाएं ! कविता हमारे ज़ह़्न को रोशन कर गई! बधाई !

M.A.Sharma "सेहर" ने कहा…

Subhash ji

bahut bareekiyon se bareekiyon ka jikr hua....

sundar !

aaapke uttam swasthy ke liye mangal kamnayen

Deepawalii ke bhe shubhkamnayen !

Asha ने कहा…

कविता को भाव से ही जाना जा सकता है |आपने बिल्कुल सत्य कहा है |इसे परिभाषित कर ,इसे किसी सीमा में बाँध कर नहीं रखा जा सकता |बहुत अच्छी प्रस्तुति |आभार
आशा

बेनामी ने कहा…

सुन्दर कविता ! बहुत समय बाद आपको ब्लॉग पर उपस्थित पा कर हर्ष हुआ | दीप पर्व की मंगलकामनाएं! दिवाली के दीये कलम में ही नहीं, जीवन में भी उजाला भरे !

सादर

इला

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 02-11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

मंजुला ने कहा…

नीरव जी आपने सही कहा है अच्छी कविता के लिए हार्दिक बधाई !

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' ने कहा…

belaag baat... kavita ko sayane naheen samajhdar hee samajhte hain. badhaee.

Dorothy ने कहा…

शब्दो की सार्थकता वाकई जीवन के गहन सत्यों को उजाला बन तिमिर की कैद से निकाल कर उन्हें अर्थों का नया आयाम देने में है. बेहद गहन अर्थों को समेटती एक खूबसूरत और भाव प्रवण रचना. आभार.
सादर,
डोरोथी.

सुधाकल्प ने कहा…

कविता पढ़ी,गहराई तक रोशनाई हुई,बधाई|
सुधा भार्गव

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

आपकी कविता के शब्दों की रोशनी ने मन के आंगन को जगमगा दिया। दीपावली के शुभ अवसर पर आपको भी हार्दिक बधाई!

sunil gajjani ने कहा…

प्रणाम !
'' शब्द जो बाले तो बाले
जीवन का सत्य ...''
उक्त पंक्तिया आप को नज़र करता हूँ . बहुत कुछ छिपा है इन पंक्तियों में , इक गूढ़ भाव . इक दर्शन . सुंदर रचना है . बधाई .
साधुवाद
सादर !

mridula pradhan ने कहा…

ekdam sahi likha hai aapne.

रूपसिंह चन्देल ने कहा…

विलंब से प्रतिक्रिया दे रहा हूं. यार बहुत ही सटीक और सुन्दर बात कही. कविता ने मन मोह लिया.

बधाई.

चन्देल

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

सुभाष जी ,
आपको याद ही कर रही थी कि आप आ गए .....
ये आँखें भी बहुत परेशान करती हैं ....जवानी अलग तो बुढ़ापे में अलग .....
रौशनी की लकीर है मेरे पास आपकी दी हुई ....
कुछ नज्में तो बहुत ही अच्छी हैं ...
आदमी की फितरत ,लडती है रोज़ एक औरत आग से , ठोकरें आदि ...

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत करीब से गुजरी रचना!

Dorothy ने कहा…

इस ज्योति पर्व का उजास
जगमगाता रहे आप में जीवन भर
दीपमालिका की अनगिन पांती
आलोकित करे पथ आपका पल पल
मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
सुख समृद्धि शांति उल्लास की
आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
सादर
डोरोथी.

भगीरथ ने कहा…

कविता जो जीवन का अर्थ खोले
सभी कविताएं पढ गया। आम अनुभवो। से ओतप्रोत जन जन को छूने वाली
भगीरथ

manukavya ने कहा…

भाव और भाषा का प्रवाह दोनों ही अत्यन्त प्रभावशाली हैं, कितने सहज और सरल शब्दों में इतनी गहरी बात व्यक्त हो गयी. .... बारीकियों को ध्यान में रख कर तो विवेचना की जाती है , कविता नहीं लिखी जाती, सही कहा आपने, जब भी कुछ दिल को छूता है तो भावोँ की नदी कविता बनकर उमड़ती है कोरे कागज़ पर... मै बलराम जी की बात से पूर्णतया सहमत हूँ, "जो कविता दिल में उजाला-सा भर दे, अपनी अभिव्यक्ति-सी लगे, वह कविता अच्छी है। यह कविता ऐसी ही है।"

सादर

मंजु